Thursday, June 26, 2008

कुछ और चित्र

हिमाचल का दूरस्‍थ गांव ताबो, दोनों तरफ वीरान ऊंचे पहाड़ों के बीच हरियाली का बिंदु नजर आए तो समझिए ताबो आ गया।

एक दिन में 30 किलोमीटर का पहाड़ी सफर तय करते हुए एक नदी पार करते हुए।






या यात्रा की थकान सतलुज के पानी में पैर डालने से दूर हो गई। उसके किनारे अपने मित्रों के साथ।





ये हैं सतलुज नदी का पार करने का रामपुर सराहन के बाद एकमात्र पुल।








ताबो गांव में पहाड़ी पर कई बौध गुंफाएं हैं, कहते हैं इनमें बैठकर भिक्षु साधना किया करते थे। एक गुंफा के अंदर से ताबो का नजारा।









5 comments:

advocate rashmi saurana said...

bhut sundar photos.

Mired Mirage said...

बहुत सुन्दर फोटो हैं। कहाँ के हैं?
घुघूती बासूती

कुश एक खूबसूरत ख्याल said...

सुंदर चित्र है..

Udan Tashtari said...

सुन्दर फोटो-केप्शन भी लगा दिजिये तो और मजा आये.

bahadur patel said...

bahut sundar photo lagaye hain aapane.